All Categories

india population,india population in hindi,population in india,population of india,india total population

india population,india population in hindi,population in india,population of india,india total population

भारत की जनगणना -2011

  •  भारतीय संविधान की धारा -246 के अनुसार देश की जनगणना कराने का दायित्व संघ सरकार को सौंपा गया है । यह संविधान की सातवीं अनुसूची की क्रम – संख्या -69 पर अंकित है ।
  • जनगणना संगठन केन्द्रीय गृह मंत्रालय के अधीन कार्यरत है , जिसका उच्चतम अधिकारी भारत का महापंजीयक एवं जनगणना आयुक्त ( RegistarGeneral and Census Commissioner of India ) होता है । यह देश भर में जनगणना संबंधी कार्यों को निर्देशित करता है तथा जनगणना के आँकड़ों को जारी करता है ।
  • वर्तमान में भारत के महापंजीयक एवं जनगणना आयुक्त डॉ . सी . चन्द्रमौली है । इनसे पूर्व इस पद पर देवेन्द्र कुमार सिकरी ( 2004 से 2009 ई . तक ) थे ।
  • 2011 ई . की जनगणना यानी 15 वीं जनगणना ( स्वतंत्र भारत की 7 वीं जनगणना ) की शुरुआत महापंजीयक एवं जनगणना आयुक्त के द्वारा 1 अप्रैल 2010 ई . से हुई है ।
  • सितम्बर , 2010 ई . को केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने जाति आधारित जनगणना ( 1931 ई . के बाद पहली बार ) की स्वीकृति प्रदान कर दी , जो अलग से जून , 2011 से सितम्बर , 2011 ई . के बीच सम्पन्न हुई ।
  • जनगणना 2011 ई . का शुभंकर प्रगणक शिक्षिका थी तथा इसका आदर्श वाक्य था — हमारी जनगणना हमारा भविष्य ।
 भारत में जनगणना की शुरुआत 1872 में लॉर्ड मेयो के कार्यकाल में हुई । भारत में नियमित जनगणना की शुरुआत 1881 ई . में लॉर्ड रिपन के कार्यकाल में हुई थी । 1881 ई . में जनगणना आयुक्त w.w प्लोडन थे , वहीं स्वतंत्र भारत के पहली जनगणना -1951 ई . के समय जनगणना आयुक्त R.A. गोपालास्वामी ( 1949-53 ई . ) थे । आधुनिक विश्व में सर्वप्रथम व्यवस्थित रूप से जनगणना कराने का श्रेय स्वीडेन को है । जहाँ 1749 ई . में पहली बार जनगणना कराई गयी थी । दशकीय जनगणना की शुरुआत 1790 ई . से अमेरिका में हुई । 1801 ई . में इंग्लैंड में जनगणना प्रारंभ हुई
  • जनगणना 2011 ई . के तहत देश में पहली बार राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर ( NPR – National Population Resister ) तैयार किया जा रहा है , जिसमें देश के सभी नागरिकों के कुल 15 विवरण दर्ज कराने के अतिरिक्त 15 वर्ष एवं इससे ऊपर की वय के सभी नागरिकों बायोमीट्रिक्स आँकड़े एकत्र किये जा रहे हैं ।
नोटः राष्ट्रीय जनसंख्या नीति -2000 ई . के अनुसार वर्ष 2045 ई . तक जनसंख्या स्थिरता प्राप्त करने का लक्ष्य है ।
  •  2001 ई . की जनगणना में भारत का प्रशासनिक विभाजन 593 जिलों में किया गया था जबकि 2011 ई . की जनगणना में यह विभाजन 640 जिलों में किया गया है । स्पष्ट है कि एक दशक की अवधि ( 2001-2011 ई . ) में कुल 47 नये जिले बने ।
  • महान विभाजक वर्ष : भारत के के जनांकिकीय इतिहास में 1921 ई . को महान विभाजक की संज्ञा दी जाती है । 1911 से 1921 ई . के 1 दौरान भारत में जनसंख्या की दशकीय वृद्धि ऋणात्मक ( -0.31 % ) हो गई थी फलस्वरूप इस दशक में भारत की जनसंख्या में 77 लाख की कमी आई । इसीलिए 1921 ई . को विभाजक वर्ष की संज्ञा दी गई है । FFIEFTET सी – भारत का की जनसंख्या में सर्वाधिक औसत वार्षिक घातीय वृद्धि दर 1961-71 ई . के दौरान दर्ज की गयी थी

2011 जनगणना से संबंधित प्रमुख आँकड़े

  •  2011 ई . की जनगणना के अनुसार भारत की कुल जनसंख्या 1,21,08,54,977 है , जिसमें 62,32,70,258 ( 51.47 % ) पुरुष एवं 58,75,84,719 ( 48.53 % ) महिलाएँ हैं ।
  • 2011 ई . जनगणना के अनुसार भारत की कुल जनसंख्या विश्व की कुल जनसंख्या का 17.5 % है ।
  • जनसंख्या में वार्षिक वृद्धि दर 1.97 % से घटकर 1.64 % हो गयी है जबकि दशकीय वृद्धि दर 21.54 % से घटकर 17.7 % हो गयी है । नगालैंड की दशकीय वृद्धि दर ऋणात्मक ( -0.6 % ) रही ।
  • जनसंख्या घनत्व 325 व्यक्ति प्रति वर्ग किमी से बढ़कर 382 शा व्यक्ति प्रति वर्ग किमी हो गया है ।
  • लिंगानुपात 933 से बढ़कर 943 हो गया है ।
  • शिशु लिंगानुपात ( 0-6 वर्ष ) 927 से घटकर 918 हो गया ।
  • जनसंख्या में साक्षर लोगों की संख्या 64.84 % से बढ़कर 73 % हो गयी है । पुरुष साक्षरता 75.26 % से बढ़कर 80.9 % एवं महिला साक्षरता 53.67 % से बढ़कर 64.6 % हो गयी ।
  • ग्रामीण क्षेत्र में न्यूनतम साक्षरता दर वाला राज्य आन्ध्र प्रदेश(60.4%)
  • शहरी क्षेत्र में न्यूनतम साक्षरता वाला राज्य उत्तर प्रदेश ( 75.1 % ) है ।
  • ग्रामीण क्षेत्र में सर्वाधिक साक्षरता वाला राज्य केरल ( 93 % ) है ।
  • देश में अब तक पूर्ण साक्षर घोषित किये गये एक मात्र राज्य  केरल
  •  जनगणना 2011 ई . के अनुसार देश में अनुसूचित जाति ( SC ) के व्यक्तियों की कुल संख्या 20.14 करोड़ है जो देश की कुल जनसंख्या का 16.6 % है । ( 2001 में यह 16.2 % थी )
  • 2011 ई . में अनुसूचित जातियों में लिंगानुपात 945 है ।
  • 2001 से 2011 ई . के दौरान देश में अनुसूचित जाति की दशकीय वृद्धि दर 20.8 % रही ।
  •   2011 ई . के जनगणना के अनुसार देश में अनुसूचित जनजाति ( ST ) के व्यक्तियों की कुल संख्या 10.43 करोड़ है जो देश की कुल जनसंख्या का 8.6 % है । ( 2001 में यह 8.2 % थी )
  • 2011 ई . में अनुसूचित जनजातियों ( ST ) का लिंगानुपात 990 है ।
  • 2001 से 2011 ई . के दौरान देश में अनुसूचित जनजातियों ( ST ) की दशकीय वृद्धि दर 23.7 % रही ।
  • जनगणना -2011 के अनुसार देश की कुल जनसंख्या में नगरीय जनसंख्या 31.2 % है जबकि ग्रामीण जनसंख्या 65.8 % है । उल्लेखनीय है कि 2001 में नगरीय जनसंख्या 27.8 % तथा ग्रामीण जनसंख्या 72.2 % थी ।
  • राज्यों में सिक्किम की जनसंख्या सबसे कम है । इसकी जनसंख्या से कम जनसंख्या वाले चार केन्द्रशासित प्रदेश हैं — अंडमान एवं निकोबार , दादर एवं नगर हवेली , दमन व दीव एवं लक्षद्वीप यानी सिक्किम , अंडमान एवं निकोबार ,दादर व नगर हवेली , दमन व दीव , लक्षद्वीप ।
  • ST जनसंख्या प्रतिशत के मामले में झारखंड ( 26.2 % ) 11 वें स्थान पर है ।
  • नोट : हरियाणा एवं पंजाब में कोई भी अनुसूचित जनजाति ( ST ) निवास नहीं करती है ।

जनगणना 2011 :

  • केन्द्रशासित प्रदेश सर्वाधिक जनसंख्या वाला केन्द्रशासित प्रदेश दिल्ली ( दूसरा एवं तीसरा स्थान क्रमशः पुदुचेरी एवं चंडीगढ़ ) है व न्यूनतम जनसंख्या वाला केन्द्रशासित प्रदेश लक्षद्वीप है । 
  • सर्वाधिक दशकीय वृद्धि वाले केन्द्रशासित प्रदेश दादरा एवं नगर हवेली ( 55.9 % ) [ दूसरा एवं तीसरा स्थान क्रमशः दमन व दीव ( 53.8 % ) , पुदुचेरी ( 28.1 % ) ] है व न्यूनतम दशकीय वृद्धि दर वाले केन्द्रशासित प्रदेश लक्षद्वीप ( 6.3 % ) है ।
  • सर्वाधिक जन – घनत्व वाले केन्द्रशासित प्रदेश दिल्ली ( 11,320 ) है व न्यूनतम जन – घनत्व वाले केन्द्रशासित अंडमान निकोबार द्वीप समूह ( 46 ) है । जन – घनत्व में दूसरा स्थान चंडीगढ़ ( 9,258 ) का है ।
  • सर्वाधिक लिंगानुपात वाले केन्द्रशासित प्रदेश पुदुचेरी ( 1,037 ) है व न्यूनतम लिंगानुपात वाले केन्द्रशासित प्रदेश दमन व द्वीप ( 618 ) है । लिंगानुपात में दूसरा स्थान लक्षद्वीप ( 947 ) का है । सर्वाधिक शिशु ( 0-6 वर्ष ) लिंगानुपात वाला केन्द्रशासित प्रदेश अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह ( 968 ) है व न्यूनतम शिशु लिंगानुपात वाला केन्द्रशासित प्रदेश दिल्ली ( 8.71 ) है । शिशु लिंगानुपात में दूसरे स्थान पर पुदुचेरी ( 967 ) है । सर्वाधिक साक्षरता प्रतिशत वाला केन्द्रशासित प्रदेश लक्षद्वीप ( 91.8 % ) है व न्यूनतम साक्षरता प्रतिशत वाला केन्द्रशासित प्रदेश दादरा एवं नगर हवेली ( 76.2 % ) है ।
  • साक्षरता प्रतिशत में दूसरा स्थान दमन एवं दीव ( 87.1 % ) है । सर्वाधिक पुरुष साक्षरता वाला केन्द्रशासित प्रदेश लक्षद्वीप ( 95.6 % ) है व न्यूनतम पुरुष साक्षरता वाला केन्द्रशासित प्रदेश दादरा नगर हवेली ( 85.2 % ) है ।
  • सर्वाधिक महिला साक्षरता वाला केन्द्रशासित प्रदेश लक्षद्वीप ( 87.9 % ) है और न्यूनतम महिला साक्षरता वाला केन्द्रशासित प्रदेश दादरा एवं नगर हवेली ( 64.3 % ) है । केन्द्रशासित प्रदेशों में सर्वाधिक नगरीय जनसंख्या एवं नगरीय जनसंख्या प्रतिशत दिल्ली का है व न्यूनतम नगरीय जनसंख्या प्रतिशत अंडमान निकोबार द्वीप समूह ( 37.7 % ) का है ।
  • जनसंख्या की दृष्टि से सबसे छोटा केन्द्रशासित प्रदेश लक्षद्वीप ( 64,473 ) है । सर्वाधिक SC जनसंख्या प्रतिशत वाला केन्द्रशासित प्रदेश चण्डीगढ़ ( 18.9 % ) है लेकिन दिल्ली सर्वाधिक SC जनसंख्या वाला ( 28.12 लाख ) केन्द्रशासित प्रदेश है ।
  • रोट : लक्षद्वीप तथा अंडमान निकोबार द्वीप समूह में कोई भी अनुसूचित जाति ( SC ) निवास नहीं करती है ।
  • सर्वाधिक ST जनसंख्या प्रतिशत वाला केन्द्रशासित प्रदेश लक्षद्वीप ( 94.8 % ) है वही सर्वाधिक ST जनसंख्या वाला केन्द्रशासित प्रदेश दादरा एवं नगर हवेली ( 1,78,564 ) है ।
  • ट : दिल्ली , चण्डीगढ़ एवं पुदुचेरी में कोई भी अनुसूचित जनजाति ( ST ) निवास नहीं करती है ।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *